Monday, June 7, 2021

Sasur ji or unka ladka ne mujha choda - Hindi sex story

 Hindi sex story :- अब मई कहानी पर आती हु. दर-असल ये बात मेरी शादी के ४ साल बाद की है. तब मई और मेरे पति मेरे बड़े ससुर जी राजेश को लेने उनके विलेज गए थे और उनके साथ मेरी चुदाई हुई थी. पहली चुदाई के बाद जब दूसरी बार मेरी उनसे चुदाई हुई तो उनके बड़े बेटे कुमार ने हमें देख लिया था.इसी वजह से मुझे कुमार के साथ भी अपनी छूट छुडवानी पड़ी. 

 

मई आज वही सब आपको बताने वाली हु. वैसे मई एक जॉइंट फॅमिली से हु. मेरे ससुर जी टोटल तीन भाई है और मई उनके बारे में पहले ही बता चुकी हु( मेरी कल्पना पार्ट १ में)मई और मेरे पति राकेश मेरे बड़े ससुर जी राजेश को मन कर हमारे घर ले कर आये थे. फिर सब ठीक हो गया था और कुछ दिन हम सब साथ खाना बनाते थे.३ भाइयो की फॅमिली एक साथ हो गयी थी और यहाँ भी बड़े ससुर जी राजेश मेरे साथ मस्ती करते थे. 

 

अब मई ससुर जी को अकेले में राजू बोलती थी. वैसे हम दोनों को ज़्यादा टाइम नहीं मिलता था.मई जब भी उनसे बात करती थी या उनके करीब होती थी तब उनका बड़ा बीटा कुमार हमें नोटिस करता था. 

 

फिर मई उनसे अब काम बात करने लगी और दूर-दूर रहने लगी क्युकी मुझे कुमार जेठ जी से डर लगने लगा था की कही वो हमें कुछ करते हुए देख ना ले.उनको अभी तक सिर्फ शक था हम पर कन्फर्म नहीं था.

 

 तो इसीलिए मई ससुर जी से थोड़ी दूर-दूर होने लगी. काफी दिन ऐसे ही भीत गए और आखिर-कार हमें चुदाई करने का मौका मिल ही गया.हमने प्लान बनाया था की खाना खाने के बाद रात के १ या २ बजे के करीब हम टेरेस पर मिलेंगे. मई और बड़े ससुर जी राजेश 

 

 Hindi sex story :-फिर रात को १ बजे के पास टेरेस पर पहुँच गए.मई टेरेस पर पहुँच गयी थी लेकिन वो अभी नहीं आये थे. फिर मई उनकी वेट कर रही थी. तभी राजू ने मेरे पीछे से आ कर मुझे ज़ोर से पकड़ लिया (यानी मेरे बड़े ससुर जी राजेश ने)फिर वो मुझे चूमने-चाटने लगे. वो काफी देर तक मुझे चूमते रहे और फिर मेरे कपडे उतारने लग गए. लेकिन मेरा मूड मारा हुआ था क्युकी मेरे दिल में डर सा था. 

 

मुझे लग रहा था की कही कुमार हम दोनों को देख ना ले.राजू: क्या हुआ डार्लिंग? तुम ऐसे क्यों कर रही हो मेरे साथ? बोलो.मई: डार्लिंग वो मुझे पहले पता नहीं था की तुम्हारा बीटा कुमार हमें नोट करता है.राजू: ये क्या बोल रही हो डार्लिंग. मेरा बीटा हमें नोट कर रहा है?मई: नोट कर रहा है और मुझे लाइन भी मार रहा है. 

 

वो मुझे घूर-घूर कर देखता है.राजू: नहीं डार्लिंग ऐसा कुछ मत सोचो और बस तुम सेक्स एन्जॉय करो और फिर कुमार को भी देख लेंगे.मई: ठीक है.फिर राजू मुझे किश करने लगे. वो मुझे फ्रेंच किश कर रहे थे.मई: मई जब तुम्हारे साथ चुदाई करती हु तब मुझे एक अलग ही मज़ा आता है. मई खुद को रोक नहीं पाती और तुमसे चुदाई करवाए बिना रह नहीं पाती.

 

राजू: हां डार्लिंग वो मेरा लुंड तेरे पति राकेश से बहुत ताक़तवर है इसलिए तो तुझे मेरा ये लुंड बहुत मज़ा देता है.मई: हां डार्लिंग.और फिर मई राजू का लुंड मुँह में लेकर चूसने लग गयी. वो भी मेरे मुँह को छोड़ने लगा. वो मेरे गले की हलक तक लुंड घुसा रहा था.राजू: डार्लिंग और अंदर तक लो मेरा लुंड. आठ आठ आठ बहुत मज़ा आ रहा है.

  Hindi sex story :- Vidhwa Preeti Bhabhi Ki Chudi Ki Kahani

मई: ठीक है जानू.मेरी साँसे फूलने लगी थी और खांसी होने लगी थी पर राजू मेरे सर को पकड़ कर अपने लुंड पर दबाये जा रहा था ताकि लुंड बाहर न निकले. मेरी तो जान ही निकल रही थी.

 

राजू: अह्ह्ह्ह ओह्ह्ह्हह्ह उफ्फ्फ्फ़ अब मई रुक नहीं सकता. तुम ऐसे ही मेरा लुंड चूसती रही तो मई झाड़ जाऊँगा.और फिर राजू ने लुंड मेरे मुँह से निकाल दिया और मेरी सलवार का नाडा खोल कर उसको उतार दिया. फिर वो मेरी छूट में ऊँगली करने लगा और थोड़ी देर में ही मेरी छूट पानी छोड़े लगी.छूट का सारा पानी राजू चाट गया और फिर मुझे सीढ़ी ज़मीन पर लिटा दिया. 

 

 Hindi sex story :- फिर वो खुद मेरे ऊपर आ गए. उन्होंने मेरी छूट पर अपना लुंड सेट किया और आहिस्ते-आहिस्ते लुंड को मेरी छूट पर रगड़ने लगे.फिर उन्होंने एक ही झटके में अपना पूरा लुंड मेरी छूट में घुसा दिया.राजू: डार्लिंग तुम अंदर से बहुत गरम माल हो और तुम्हारी छूट बहुत मस्त है. तुम्हारी छूट एक झटके में पूरा लुंड खा लेती है.

 

मई: हां डार्लिंग वो तो है. और अंदर तक करो ऐसे ही करते रहो आह्ह्ह्ह… मुझे बहुत मज़ा आ रहा है.राजू: अंजलि डार्लिंग सच बताओ तुम्हे मेरे लुंड से ज़्यादा मज़ा आता है या राकेश के लुंड से.मई: डार्लिंग तुम्हारे लुंड जैसा किसी का लुंड नहीं है और मेरे पास तुम्हारा इतना बड़ा सख्त लुंड है तो मई दुसरे लुंड से क्या मज़ा लूंगी .

 

मेरे ऐसे बोलने पर राजू और ज़ोर-ज़ोर से झटके मारने लगा. राजू ने करीब १५ मिनट तक मेरी चुदाई की और फिर शांत हो गया. फिर राजू के लुंड से बहुत सारा माल निकला. जब उसने अपना लुंड मेरी छूट से निकाला उसके बाद भी मेरी छूट से उसका माल किसी नदी की तरह बह रहा था.उसके बाद फिर कुछ देर हमने वही आराम किया. 

 

फिर हम अपने-अपने रूम में चले गए. अगले दिन मेरे पति राकेश को ऑफिस के काम से आउटडोर जाना पड़ा तो मेरी सासु माँ ने मुझे भी उनके साथ जाने को कहा और मुझे भी उनके साथ जाना पड़ा.मुंबई में भी हमारा एक घर है जो मई पहले ही बता चुकी हु.

 

 हम उसी घर में ठहरे थे. अभी हमें सिर्फ २ दिन ही हुए थे की कुमार अचानक से वह आ गया.वो जब घर आये थे उस वक़्त राकेश घर पर नहीं और मई अकेली ही थी.वैसे वो रिश्ते में मेरे जेठ जी लगते है और वो उम्र में मेरे पति से बड़े है.कुमार: कैसी हो बहु और राकेश कहा है?मई: जेठ जी वो ऑफिस गए है. आप अंदर आओ और बैठो मई आपके लिए पानी लाती हु.वो चेहरे से काफी गुस्से में लग रहे थे. 

 

Bahu sex story :- उन्होंने मुझसे ज़्यादा बात नहीं की और वो रूम में चले गए. मुझे लगा की शायद वो भी आते होंगे इस घर में तभी तो अपनी मर्ज़ी से रूम में चले गए.फिर थोड़ी देर बाद मुझे मेरे बड़े ससुर जी यानी राजू का फ़ोन आया और उन्होंने मुझे बताया की-राजू: डार्लिंग कैसी हो? ठीक तो हो ना?मई: हां डार्लिंग मई तो एक-दम मस्त हु. तुम बताओ? अभी सिर्फ दो दिन ही हुए है और तुम तड़पने लगे हो मेरे लिए.

 

राजू: डार्लिंग तुम चीज़ ही ऐसे हो पर एक बुरी खबर है हमारे लिए.मई: क्यों क्या हुआ?राजू: वो हमारे बारे में कुमार को सब पता चल गया है.मई: ओह सहित! यार कैसे पता चल गया उसको?राजू: हां उस रात उसने हमारी चुदाई देख ली थी. फिर मैंने उसको समझाने की बहुत कोशिश की पर वो मेरी बात सुनने के लिए तैयार ही नहीं है. अब कल रात से वो कहा गया है मुझे कुछ मालूम नहीं है.

 

मई: लेकिन वो तो यहाँ आया है अभी थोड़ी देर ही हुई है.राजू: ओह सहित! डार्लिंग अब तुम्हे उसको कैसे भी करके रोकना होगा.अब हम दोनों की इज़्ज़त तुम्हारे हाथ में है.

 

 Hindi sex story :- अब उसको तुम ही रोक सकती हो.मई: मई कैसे रोक सकती हु उनको.इतना बोल कर मैंने फ़ोन काट दिया. मई सोचने लगी की अब मई क्या करू. फिर मुझे कुमार को रोकने का अब एक ही रास्ता सूझ रहा था. 

 

और वो रास्ता था कुमत जेठ जी को अपनी छूट का चस्का लगा देना.वो अंदर के रूम में टेबल पर बैठे थे. फिर मई उनके लिए पानी का गिलास ले गयी. मई सलवार सूट में थी इसलिए जान-बूझ कर उनके सामने झुकी थी ताकि उनको मेरे बूब्स दिखे. फिर वो पानी पीने के बाद उठे और मैंने उनसे पुछा-

 

मई: क्या हुआ जेठ जी?कुमार: कुछ नहीं बहु मुझे ज़रा बाथरूम जाना है 

.मई: ओह! क्या हुआ जेठ जी कही मेरे बूब्स देख कर आपका वो खड़ा तो नहीं हो गया?कुमार: क्या कहा बहु तुमने ?मई: कुछ नहीं वो आप सीधे जा कर लेफ्ट में चले जाओ. बाथरूम उसी साइड पर है.कुमार: मालूम है मुझे बहु ये मेरा भी घर है.

 

फिर जेठ ही बाथरूम में चले गए लेकिन काफी देर हो चुकी थी और वो अब भी वापस नहीं आये थे. फिर मई उनके पीछे बाथरूम में गयी. मैंने देखा की सच में उनका लुंड खड़ा हुआ था.

 

वो आँखें बंद करके हलकी-हलकी आवाज़ में मेरा नाम ले रहे थे और मुठ मार रहे थे. मैंने ये सब बाथरूम की खिड़की से देखा और फिर थोड़ी देर बाद वो बाथरूम से बाहर निकल आये.

 

मई जल्दी से उनसे पहले हॉल में वापस आ गयी और फिर मैंने उनको कहा-मई: जेठ जी आप रूम में जा कर आराम कर लो.अब कुछ देर बाद राकेश भी आने वाले थे और फिर राकेश के आने के बाद वो भी कुमार जेठ जी से मिले. 

 

 Hindi sex story :- उसके बाद हम सब ने साथ में दोपहर का खाना खाया. मैंने जॉब बूझ का खाना परोसते हुए जेठ जी को टच किया.मेरे बूब्स भी उनको टच हुए और फिर मई बोली-मई: जेठ जी थोड़ा और हलवा लो ना.कुमार: हां बहु लेता हु. वैसे तुमने खाना बहुत बढ़िया बनाया है.मई: थैंक्स जेठ जी.तभी मैंने देखा की जेठ जी की नज़र मेरे बूब्स पर ही टिक गयी थी. वो अब घूर-घूर कर मेरे बूब्स को देख रहे थे और मेरे ऐसा करने से उनको राकेश को कुछ भी बोलने का मौका ही नहीं मिला.

No comments:

Post a Comment