Thursday, April 15, 2021

Padosan bahbhi ki chudai ki kahani

Chudai ki kahani :- 

हलो दोस्तों मेरा नाम युवी है और मई पंजाब पटिआला से हु. मेरी आगे २६ ईयर है और मई हमेशा चुदाई का प्यासा ही होता हु. मुझे बड़ी उम्र की गर्ल्स भाभियाँ और औंटीएस को छोड़ने में और उनका पानी निकाल कर पीने में बहुत मज़ा आता है.ये मेरी फर्स्ट स्टोरी है और आप लोग प्लीज मुझे फीडबैक ज़रूर देना की आपको मेरी स्टोरी कैसी लगी.तो चलिए आपको बोर न करते हुए स्टोरी पर आते है-दोस्तों उस टाइम मई २२ ईयर का था और मई अपने दोस्त की कॉलोनी में अक्सर उसके घर जाता रहता था.

 हम साथ में ही एक कॉलेज में थे तो आना-जाना लगा रहता था. तो एक बार उनकी कॉलोनी में एक नई कपल आया.वो लोग अपना सामान अपने में लेकर जा रहे थे.

Padosan bahbhi ki chudai ki kahani
Padosan bahbhi ki chudai ki kahani

 

 

 वो किसी को जानते भी नहीं थे और गर्मियों के दिन थे. दोनों हस्बैंड वाइफ गर्मी में सामान ऊपर ३र्ड फ्लोर पर कर रहे थे.मई आपको उस फॅमिली के बारे में बता दू. अमित और उसकी वाइफ मीरा ही थे फॅमिली में. मीरा ज़्यादा ब्यूटीफुल तो नहीं थी लेकिन उसका फिगर तो वाह! क्या बताऊ लुंड खड़ा हो जाता है याद करके.

Chudai ki kahani :- उसके बूब्स तरबूज़ जैसे थे और उसकी गांड देख कर तो लुंड बेकाबू हो जाता है. तो मई उनके पास गया और मैंने अमित को हलो बोलै और उनको अपना नाम बताया. फिर मैंने उनको हेल्प के लिए पुछा तो अमित ने कहा-अमित: येह सूरे.तो हमने सामान ऊपर undefined किया और मई बार-बार मीरा को देख रहा था. उसको भी अब शक सा होने लगा था की मई उसको ताड़ रहा हु. अब सामान सारा ऊपर हो गया था.वो दोनों थक गए थे और सोफे पर बैठे थे. इतने में मीरा कोल्ड ड्रिंक ले आयी और हमने कोल्ड-ड्रिंक पी ली. 

मैंने मीरा को काम-वासना की नज़र से देखा लेकिन उसने कुछ नहीं कहा.अब मैंने उनको बाई कहा और अपने घर आ गया. मेरी आँखों में बस मीरा का फिगर था. मई वाशरूम गया और उसके नाम की मुठ मारी. अब रात हो गयी थी और मुझे नींद नहीं आ रही थी.नेक्स्ट डे मई फिरसे वह गया और मई जान-बूझ कर उनके के सामने से १-२ बार गुज़रा ताकि वो मुझे देख सके. इतने में अमित ने मुझे आवाज़ दी और मैंने उसको ही कहा. फिर उसने मुझे अंदर बुलाया और कोल्ड ड्रिंक ऑफर की.

मैं कोल्ड ड्रिंक पी रहा था की इतने में मीरा बाथरूम से नाहा कर निकली. क्या मस्त लग रही थी वो. उसने अपने हेयर खुले छोड़े हुए थे. मेरा तो लुंड खड़ा हो गया लेकिन मैंने किसी तरीके से उसे छुपा लिया.लेकिन मीरा ने मेरा लुंड देख लिया था और उसने हलकी सी स्माइल की. फिर उसने मुझे हलो बोलै और मैंने भी ही कहा. फिर वो अपने रूम में गयी और कुछ मिनट्स बाद आयी और हमारे साथ बैठ गयी.वो मेरे बारे में पूछ रहे थे की मैं कहा से हु क्या करता हु वगैरा-वगैरा. 

मैंने उन्हें सब बताया और मैंने उनसे पुछा तो उन्होंने बताया की अमित की जॉब के कारण उन्हें यहाँ  होना पड़ा और मीरा पहले टीचर थी और अभी फ्री है मतलब हाउस वाइफ है.उसके बाद अमित और मेरे बीच दोस्ती हो गयी और हमने नंबर एक्सचेंज कर लिए. उसके बाद मई अपने दोस्त के घर चला गया. मेरे दोस्त के घर से मीरा की बालकनी दिखाई देती थी तो मई वह खड़ा रहता था की कब मुझे मीरा दुखायी दे.इतने में मीरा वह आयी और हमारी नज़रे मिली और उसने एक स्माइल की और मैंने भी. अब मुझे मीरा को छोड़ना ही छोड़ना था. मुझसे कण्ट्रोल नहीं हो रहा था.

 ऐसे ही कुछ वीक्स निकल गए.एक दिन मुझे अननोन नंबर से कॉल आयी और मैंने पुछा: कोण बोल रहा है?तो उसने बताया: मीरा बोल रही हु.मीरा का नाम सुन कर मेरी तो हार्टबीट तेज़ हो गयी. मैंने उसका हाल चाल पुछा और उसको पुछा 

Chudai ki kahani मैं: मेरा नंबर आपको कहा से मिला?उसने कहा: अमित के फ़ोन से लिया है.फिर मैंने पुछा: कैसे याद किया मुझे आज.उसने कहा: मुझे घर में सामान सही ढंग से लगाना है तो क्या आप मेरी हेल्प कर सकते है?ये सुनके मेरे मैं में लड्डू फूटने लग गए. मेने तुरंत हां कर दी और मई अपनी बाइक से वह पहुँच गया. मैंने दूर बेल्ल बजायी और उसने दूर ओपन किया. मैंने उसको देखा तो देखता ही रह गया.उसने मैक्सी पहनी हुई थी और उसकी ब्रा जैसे अभी फट जाएगी ऐसा लग रहा था. उसने कहा-मीरा: अंदर भी आओगे की वही खड़े रहना है?

तो मई होश में आया और अंदर चला गया.फिर उसने पुछा: क्या लोगे?मैंने नॉटी स्माइल करते हुए कहा: जो आप दे दो.तो उसने स्माइल की और कोल्ड ड्रिंक लेकर आ गयी. फिर हमने उनका बीएड सेट किया और बाकी का फर्नीचर भी सेट किया.मैंने पुछा: अमित कहा है?तो उसने कहा: वो काम के लिए २ दिन के लिए बाहर गया है.तो मेरी तो लाटरी निकल आयी. अब मुझे उसे छोड़ना था लेकिन कैसे ये समझ में नहीं आ रहा था.

Chudai ki kahani 

फिर उसने कहा: लंच करते है.मैंने बोलै: ठीक है.फिर वो बोली: मई नाहा कर आती हु फिर कही बाहर चल कर लंच कर लेंगे.उसके बाद वो नाहा कर और तैयार हो कर आयी. अब उसने जीन्स और शार्ट टॉप पहना हुआ था. बी गॉड एक-दम आईशा तकिए लग रही थी.फिर उसने कहा: हमारी कार में चलते है.तो हम मॉल गए और वह पिज़्ज़ा हूत में गए. फिर कुछ हॉर्स वह स्पेंड किये और इतने में शाम हो गयी. फिर हम वापस उसके घर आ गए.शाम को उसने कहा: मुझे तुम्हारी दोस्ती अछि लगी. तुम कुछ ही दिनों में हमारे काफी क्लोज आ गए जैसे बहुत पुराने दोस्त हो.और फिर वो रोने लग गयी. मैंने उसे चुप करवाया और रोने का कारण पुछा तो उसने नहीं बताया. 

मेरे लाख पूछने पर उसने बताया की उसके हस्बैंड का कही और अफेयर है और वो उस पर ध्यान नहीं देता.मैंने कहा: कितना बड़ा बेवक़ूफ़ है तुम्हारा हस्बैंड. इतनी प्यारी बीवी हो तो कोण बाहर जायेगा. मैंने उसको गालिया दी और मीरा को चुप करवाया. मैंने मीरा से फ़्लर्ट करते हुए कहा-मई: अगर मेरी ऐसी बीवी होती तो मई हमेशा उसको प्यार करता.और अब उसे भी कुछ हो रहा था.

तो उसने कहा: क्या करते तुम.तो मैंने कहा: मई उसको खुश रखता और उसको पलकों पर बिठा कर रखता.उसने पुछा: मैं तुम्हे कैसी लगती हु?मैंने बिना डर के उसको कहा: मुझे तुम पारी जैसी लगती हो.और ये सुन कर वो शर्मा गयी. 

फिर मैंने अपने हाथ से उसके फेस को पकड़ा और उसको किश करने के लिए आगे बढ़ा. इतने में उसने मुझे किश कर दिया और मेरे लिप्स को बाईट करने लगी.वो ऐसे बाईट कर रही थी जैसे बहुत सालो के बाद उसने किश की हो. वो वाइल्ड हो रही थी. मुझे उसने सोफे पर लिटा दिया और खुद किश किये जा रही थी. फिर मई उठा और उसको बाहो में उठा कर बीएड पर ले गया और किश करने लगा.फिर वो मेरी शर्ट के बटन खोल रही थी और किश कर रही थी. इतने में मैंने अपनी पंत भी खोल दी और अंडरवियर भी. अब मैंने उसकी जीन्स और टॉप खोल दिए और ब्रा भी. 

फिर मई उसके बूब्स पर टूट पड़ा और उनको मसलने और निचोड़ने लगा.फिर मैंने उसकी पंतय उतारी और उसकी छूट को जीभ से लीक करने लगा और ऊँगली भी अंदर-बाहर करने लगा. वो फिश के जैसे तड़प रही थी और उसने कहा-

मीरा: अब बर्दाश्त नहीं होता अब chod दो मुझे.मैंने बिना टाइम लगाए लुंड उसकी छूट पर रखा और छूट गीली होने के कारण लुंड अंदर जाने लगा. मैंने थोड़ा सा धक्का मारा तो आधा लुंड अंदर चला गया. वो सिसकिया लेने लगी और दर्द के कारण चीखने लगी.फिर मैंने और ज़ोर लगाया तो पूरा लुंड अंदर चला गया. मई उसे धीरे-धीरे छोड़ने लगा और उसके बूब्स पर बाईट करने लगा. फिर मैंने धक्को की स्पीड तेज़ करदी.कुछ टाइम बाद मैंने उसे घोड़ी बनाया और लुंड छूट में पेल दिया.

मैं उसे छोड़ते टाइम उसकी गांड के छेद को भी मसल रहा था वो अब तक २ बार पानी निकाल चुकी थी. हम १९-२० मिनट से चुदाई कर रहे थे.मैंने उसे कहा: मेरा निकलने वाला है.

तो उसने कहा: अंदर मत छोड़ना.लेकिन इतने में देर हो चुकी थी. मैंने अपना सारा पानी उसकी छूट के अंदर ही छोड़ दिया और उस पर लेट गया. फिर कुछ मिनट्स के बाद मई उठा और उसको सॉरी बोलै. उसने मुझे किश किया और कहा- आईटी’स ोकय .फिर हम एक-दुसरे को किश करते रहे और मेरा लुंड फिर खड़ा हो गया.तो दोस्तों नेक्स्ट पार्ट में मई आपको बताऊंगा की कैसे मैंने उसकी गांड छोड़ी.

No comments:

Post a Comment